Mere Naam Tu( मेरे नाम तू ) | Zero| Abhay Jodhapurkar | Lyrics

Mere Naam Tu Lyrics

Song: Mere Naam Tu
Film: Zeero
Singer: Abhay Jodhpurkar
Music: Ajay-Atul
Lyrics: Irshad Kamil
Label: T-Series
Language: Hindi
Year: 2018

Presenting Mere Naam Tu Lyrics 
“Mere Naam Tu” is a first song from Shahrukh Khan’s most awaited film “Zero” cast Shahrukh Khan , Anushka Sharma and Katrina Kaif the film is directed by Anand L Rai . The song is composed by Ajay-Atul, written by Irshad Kaamil   and sang by Abhay Jodhpurkar. 


Wo rang bhi kya rang hai
Milta na jo tere honth ke rang se
Hubahu

Wo khusboo kya khusboo
Thehre na jo teri saanwri julf ke
Rubaroo


Tere aage ye duniya hai fiki si
Mere bin tu na hogi kisi ki bhi
Ab ye zahir sare aam hai
Elaan Hai

Jab tak jahan mein subah shaam hai
Tab tak mere naam tu
Jab tak jahan mein mera naam hai
Tab tak mere naam tu

Jab tak jahan mein subah shaam hai
Tab tak mere naam tu
Jab tak jahan mein mera naam hai
Tab tak mere naam tu


Uljhan bhi hoon teri
Uljhan ka hal bhi hoon mein
Thoda sa ziddi hoon
Thoda pagal bhi hoon mein
Barkha  bijlee badal jhuthe jhuthi
Phulon ki saugatein 
Sachchi tu hai sachcha mein hoon
Sachchi apne dil ki baatein


Daskhat haathon se haathon pe karde tu
Naa kar aankhon pe palko ke parde tu
Kya ye itna bada kaam hai
Elaan hai


Jab tak jahan mein subah shaam hai
Tab tak mere naam tu
Jab tak jahan mein mera naam hai
Tab tak mere naam tu

Mere hi ghere mein
Ghumegi har pal tu aise
Suraj ke ghere mein
Rehti hai dharti ye  jaise
Paayegi tu khudko na mujhse juda
Tu hai mera adha sa hissa sada

Tukde kar chahe khwabon ke tu meri
Tutenge bhi to rehne hai wo tere
Tujhko bhi to ye ilhaam hai
Elaan hai

वो रंग भी क्या रंग है
मिलता ना जो तेरे होंठ के रंग से 
हूबहू। 

वो खुशबू क्या खुसबू  
ठहरे ना जो तेरी सांवरी जुल्फ के 
रूबरू। 

तेरे आगे ये दुनिया है फीकी सी 
मेरे बिन तू न होगी किसी की भी 
अब ये जाहिर सरे आम है 
एलान है। 


जब तक जहाँ में सुबह शाम है 
तब तक मेरे नाम तू 
जब तक जहाँ में मेरा  नाम है 
तब तक मेरे नाम तू। 


जब तक जहाँ में सुबह शाम है 
तब तक मेरे नाम तू 
जब तक जहाँ में मेरा  नाम है 
तब तक मेरे नाम तू। 

उलझन भी हूँ तेरी उलझन का हल भी हूँ में 
थोड़ा सा ज़िद्दी हूँ थोड़ा पागल  भी हूँ में
बरखा बिजली बादल झूठे झूठी 
फूलों के सौगातें 
सच्ची तू है सच्चा मैं हूँ 
सच्ची अपने दिल की बातें। 

दस्खत हाथों से हाथों पे करदे तू 
ना कर आँखों पे पलकों के परदे तू 
क्या ये इतना बड़ा काम है 
ऐलान है। 

जब तक जहाँ में सुबह शाम है 
तब तक मेरे नाम तू 
जब तक जहाँ में मेरा  नाम है 
तब तक मेरे नाम तू। 


मेरे ही घेरे में घूमेगी हर पल तू ऐसे 
सूरज के घेरे में रहती है धरती ये जैसे 
पाएगी तू खुदको ना मुझसे जूदा 
तू है मेरा आधा सा हिस्सा सदा। 

टुकड़े कर चाहे ख्वाबों के तू मेरी 
टूटेंगे भी तो रहने है वो तेरे 
तुझको भी तो ये इल्हाम है 
ऐलान है 



Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *