Like this:
Like Loading...
"/>

Pehla Nasha (पहला नशा ) Lyrics| Jo Jeeta Wohi Sikandar

Pehla Nasha Lyrics

Pehla Nasha Lyrics

presenting Pehla Nasha Lyrics.
Pehla Nasha is a beautiful romantic song by Udit Narayan and Sadhna Sargam. The song is composed by Jatin-Lalit for the film Jo Jeeta Wohi Sikandar.

Song: Pehla Nasha
Film: Jo Jeeta Wohi Sikandar
Singer:Udit Narayan & Sadhna Sargam
Music: Jatin- Lalit
Language: Hindi
Year: 1992

Chahe tum kuch na kaho
Maine sun liya
Ke saathi pyaar ka
Mujhe chunn liya

Chunn Liya ..
Maine sunn liya.

Pehla nasha pehla khumar
Naya pyaar hai, naya intezaar
Kar loon main kya apna haar
Aye dil e bekaraar
Mere dil-e-bekarar, tu hi bata
Pehla nasha, Pehla khumaar

Udta hi phiun inn hawaon mein kahin
Yaa mein jhool jaaun in ghataon mein kahin
Udta hi phiun inn hawaon mein kahin
Yaa mein jhool jaaun in ghataon mein kahin
Ik kar doon aasman aur zameen
Kaho yaaron kya karoon, Kya nahin

Pehla nasha, pehla khumar
Naya pyaar hai, naya intezaar
Aye dil e bekaraar
Mere dil-e-bekarar, tu hi bata
Pehla nasha, Pehla khumaar

Ushne baat ki kuch aise dhang se
Sapne de gaya wo hazaron rang ke
Ushne baat ki kuch aise dhang se
Sapne de gaya wo hazaron rang ke

Reh jaun jaise main haar ke
Aur choome wo mujhe pyaar se

Pehla nasha, pehla khumar
Naya pyaar hai, naya intezaar
Kar loon main kya apna haal
Aye dil e bekaraar
Mere dil-e-bekarar,

पहला नशा लिरिक्स

पहला नशा, पहला खुमार, नया प्यार है नया इंतज़ार।
कर लू मैं क्या अपना हाल , ऐ दिले बेक़रार, मेरे दिले बेक़रार
तू ही बता।


पहला नशा, पहला खुमार, नया प्यार है नया इंतज़ार।
कर लू मैं क्या अपना हाल , ऐ दिले बेक़रार, मेरे दिले बेक़रार
तू ही बता।
पहला नशा, पहला खुमार।

उड़ता ही फिरूं इन् हवाओ में कहीं ,
या मैं झूल जाऊं घटाओं में कहीं
उड़ता ही फिरूं इन् हवाओ में कहीं ,
या मैं झूल जाऊं घटाओं में कहीं।
इक करदूँ आसमान और ज़मी,
कहो यारो क्या करूँ या नहीं।

पहला नशा, पहला खुमार, नया प्यार है नया इंतज़ार।
कर लू मैं क्या अपना हाल , ऐ दिले बेक़रार, मेरे दिले बेक़रार
तू ही बता।
पहला नशा, पहला खुमार।

उसने बात की कुछ ऐसे ढंग से ,
सपने दे गया हज़ारों रंग के।
उसने बात की कुछ ऐसे ढंग से,
सपने दे गया हज़ारों रंग के।

रह जाऊं जैसे मैं हार के,
और चूमें वो मुझे झूम के।


पहला नशा, पहला खुमार, नया प्यार है नया इंतज़ार।
कर लू मैं क्या अपना हाल , ऐ दिले बेक़रार, मेरे दिले बेक़रार
तू ही बता।


%d bloggers like this: